अंतरिक्ष विज्ञान की शुरुआत करने वाले वैज्ञानिक गैलिलिओ गैलिली: जिन्हें जिन्दा रहते उनकी खोजों के लिए सम्मान नहीं मिला

प्राचीन काल से ही प्रकृति और उसके रहस्यों को समझने के लिए लोगों में काफी रुचि रही है और इसे विज्ञान ने संभव कर दिखाया है| विज्ञान ही वो रास्ता है जिससे हम प्रकृति को करीब से जान पाते हैं| उसे समझ सकते हैं उसे महसूस कर सकते हैं उसे हम सुन सकते हैं कि नेचर आखिर हम से कहना क्या चाहती है| क्योंकि प्रकृति हर वक्त तुमसे कुछ न कुछ कहती रहती है लेकिन उसकी भाषा अलग होती है जिसे हर कोई समझ नहीं पाता|

galileo gailili

यह कहना बिल्कुल भी गलत नहीं होगा कि विज्ञान की भाषा ही प्रकृति की भाषा है| प्राचीन काल से ही वैज्ञानिक प्रकृति की इस भाषा को समझ कर आम लोगों तक इसे सरल शब्दों में बताते आए हैं और इतिहास के इन वैज्ञानिकों ने आज के आधुनिक विज्ञान की नींव रखी है| आज हम ऐसे ही एक वैज्ञानिक के बारे में जानेंगे जिसने न केवल इंसान के सोचने समझने की क्षमता को बढ़ाया है बल्कि इसके साथ ही उन्होंने प्रकृति को देखने का नजरिया भी पूरी तरह बदल डाला|

गैलीलियो गैलीली, यह वह महान वैज्ञानिक थे जिन्होंने विज्ञान के लिए पूरी जिंदगी संघर्ष किया| एक वक्त था जब यूरोप में कुछ सभ्यताएं अपने पतन की ओर बढ़ रही थी और देखते-देखते एक समय में पूरा यूरोप महाद्वीप अज्ञानता के अंधकार में डूब गया| फिर समय आया यूरोप में क्रांति का और यह ऐसी क्रांति थी जिसमें पूरे यूरोप को फिर से रोशन कर दिया| मगर इस बार यह यूरोप कुछ अलग था| विज्ञान और तकनीकी नई यूरोप में चार चांद लगा दिए और गैलीलियो के विज्ञान में दिए गए योगदान की वजह से यह सब संभव हो पाया|

गैलीलियो का जन्म फरवरी 1564 में इटली के पीसा नामक शहर में हुआ था| महज 17 साल की उम्र में ही गैलीलियो ने पीसा की एक यूनिवर्सिटी में डॉक्टरी की पढ़ाई शुरू की लेकिन समय बढ़ने के साथ-साथ गैलीलियो का मन डॉक्टरी की पढ़ाई से हट गया| उन्हें फिजिक्स और मैथ में ज्यादा रुचि आने लगी अपनी फिजिक्स और मैथ में बढ़ती हुई रूचि को देखते हुए उन्होंने अपनी डॉक्टरी की पढ़ाई बीच में ही छोड़ दी| वह खगोल भौतिकी के अध्ययन में जुट गए और उन्होंने प्रयोग करने शुरू कर दिए|

एक दिन जब गैलीलियो चर्च में प्रार्थना कर रहे थे तब वहां उन्होंने देखा कि चर्च में ऊपर एक झूमर टंगा हुआ है जो कि हवा से हिल रहा था| गैलीलियो उसे देखकर हैरान हुए क्योंकि जब उन्होंने झूमर का गौर से परीक्षण किया तो पाया कि झूमर में जो दोलन हो रहे थे वह सभी एक ही बराबर समय में हो रहे थे| यानी कि दोलन की लंबाई बड़ी हो या छोटी हर दोलन को पूरा करने में बराबर समय लग रहा था और उन्होंने उन दोनों का समय अपनी नब्ज के द्वारा मापा| गैलीलियो ने चर्च से आकर अपने इस अवलोकन को चेक करने के लिए एक प्रयोग किया जिसमें उन्होंने एक पेंडुलम का सहारा लिया| उस पेंडुलम को उन्होंने दाएं बाएं झुलाया और तब उन्हें वही रिजल्ट मिला जैसा चर्च में मिला|

जब यह बात उन्होंने एक प्रोफेसर को बताई तो प्रोफ़ेसर उन पर भड़क गए क्योंकि उस समय यह माना जाता था कि एक छोटा दोलन एक बड़ी दोलन के मुकाबले कम समय में पूरा हो जाता है| उस प्रोफेसर नहीं यही बात गैलीलियो को बताकर उनकी बात नकार दी| हालांकि यह केवल एक थ्योरी थी जिस पर पहला एक्सपेरिमेंट गैलीलियो ने किया था| बाद में गैलीलियो के एक्सपेरिमेंट को सही माना गया और पुरानी थ्योरी गलत साबित हुई|

गैलीलियो एक धार्मिक व्यक्ति थे लेकिन उस वक्त जैसे कट्टर बिल्कुल भी नहीं थे| एक्सपेरिमेंट करते और उसी एक्सपेरिमेंट के आधार पर थ्योरी लिख दे जो कि उस समय ऐसा करने वाले वे पहले वैज्ञानिक थे|

यह वह समय था जब मानव जाति को यह पता चला कि हमारी आकाशगंगा से भी बड़ी आकाशगंगा इस ब्रह्मांड में मौजूद है| तब इंसान को एक गहरा धक्का लगा क्योंकि तब तक सब यही जानते थे कि आकाशगंगा में हमारा सौरमंडल मौजूद है वह सबसे बड़ी है| लेकिन यह भ्रम भी टूट गया| इसके बाद लोगों को केवल एक खुशी थी कि वे जिस सौरमंडल की पृथ्वी पर रहते हैं उस पृथ्वी के सौरमंडल में सूर्य, अन्य ग्रह के चारों ओर चक्कर लगाते हैं| लेकिन उन्होंने मानव के इस अभिमान का भी अंत कर दिया| उन्होंने बताया कि पृथ्वी सूर्य के चारों ओर चक्कर लगाती है ना कि सूर्य, पृथ्वी के चारों ओर घूमता है|

जब लोगों को यह बात पता चली तो लोगों ने गैलीलियो को भला बुरा कहना शुरू कर दिया| चर्च के पादरियों ने तो उन पर मुकदमा ही लगा दिया कि वे लोगों को गुमराह कर रहे हैं और पवित्र बाइबल की बात का विपरीत कह रहे हैं| क्योंकि तब यह माना जाता था कि बाइबिल में यह लिखा है कि सूर्य और अन्य ग्रह पृथ्वी के चारों ओर चक्कर लगाते हैं| जिसका गैलीलियो ने विरोध किया| इस बात के लिए गैलीलियो को चर्च के पादरियों से माफी भी मांगनी पड़ी और उन्हें आजीवन कारावास की सजा भी भुगतनी पड़ी|

आपको बता दें कि यह पहली बार नहीं था यह बात सामने आई हो कि पृथ्वी, सूर्य के चारों ओर चक्कर लगाती हैं| इससे पहले भी कॉपरनिकस नाम के एक वैज्ञानिक ने यही बात कही थी जो कि गैलीलियो ने बताई लेकिन उस वक्त सब अरस्तु की विचारधारा पर अमल करते थे और कॉपरनिकस कि यह बात किसी ने भी नहीं सुनी| लेकिन गैलीलियो ऐसे पहले व्यक्ति थे जिन्होंने कॉपरनिकस कि इस बात का खुलकर समर्थन किया, जिसकी सजा उनको भुगतनी पड़ी|

हालांकि बाद में कैथोलिक पादरियों ने गैलीलियो के प्रति गलत व्यवहार के लिए माफी मांगी और उन्हें और उनके सिद्धांतों को सही बताया| लेकिन यह असलियत समझ में आने में 300 से ज्यादा सालों का समय लग गया| बताया जाता है कि 72 साल के होते होते गैलीलियो आंखों की रोशनी को पूरी तरह से खो चुके थे और ऐसा सूर्य का ज्यादा अध्ययन करने की वजह से हुआ था| आज गैलीलियो द्वारा दिए गए योगदान हमारे वैज्ञानिकों के लिए किसी उपहार से कम नहीं है| गैलीलियो पहले ऐसे व्यक्ति रहे जिनको उनके जीते जी उनकी खोजों के लिए कोई सम्मान नहीं मिला| लेकिन आज उनकी खोजें ही हमारे आधुनिक विज्ञान का आधार हैं| गैलीलियो एक धार्मिक व्यक्ति होने के बाद भी उन्होंने कभी भी धर्म के प्रति होने वाले अंधविश्वासों को पनपने नहीं दिया| उन्होंने हर कदम पर इसका विरोध किया| गैलीलियो ने गणित, भौतिकी, खगोल शास्त्र और चिकित्सा में अपना अहम योगदान दिया| इतना ही नहीं गैलीलियो दर्शन शास्त्री भी थे, इसके साथ ही साथ उन्हें ज्योतिष शास्त्र में भी खास रूचि थी| गैलीलियो के साथ उस वक्त जो भी हुआ हो लेकिन अपनी गलतियों को सुधारते हुए सभी ने गैलीलियो को उचित सम्मान दिया| अपनी महत्वपूर्ण खोजों और अविष्कारों के लिए गैलीलियो आज भी हम सबके दिलों में जिंदा हैं| आज गैलीलियो आधुनिक विज्ञान की प्रगति में वैज्ञानिकों के मसीहा के रूप में देखे जाते हैं|

Leave a Reply

Your email address will not be published.

AI Based DJ is Launched by Spotify Side effect of CHATGPT: Apple ‘AI summit’ for employees Christian Atsu found dead in rubble of Turkey earthquake How to survive when you lose your passport Tiktok is going to shut down Now you won’t see superman anymore Anjali Arora can be seen in this movie PATHAAN – Shahrukh Khan showing abs at the age of 57 Meghann Fahy is grabbing attention in an unexpected pantless outfit. Lainey Wilson get flirty during season 5 on the Paramount drama “Yellowstone”